Bhagalpur। कांग्रेस विधानमंडल दल के नेता और भागलपुर विधायक अजीत शर्मा ने स्वास्थ्य विभाग पर कोरोना जांच में लापरवाही का आरोप लगाते हुए जमकर निशाना साधा है, दरअसल अजीत शर्मा और उनकी धर्मपत्नी विभा शर्मा को मुंबई हवाई जहाज से जाना था, जिसको लेकर दोनों 24 मई को कोरोना जांच मायागंज अस्पताल में कराया था।

25 मई को अस्पताल प्रशासन के द्वारा जो जांच रिपोर्ट दिया गया उसमें ना ही पॉजिटिव और ना ही नेगेटिव दोनों को बताया गया, उसके बाद विधायक और उनकी धर्मपत्नी सदर अस्पताल में 25 मई को कोरोना का आरटीपीसीआर जांच कराने पहुंची, 26 मई को आये रिपोर्ट में विधायक जी जहां निगेटिव पाए गए।

वहीं उनकी धर्मपत्नी को कोरोना पॉजिटिव बताया गया, संक्रमण का कोई लक्षण नहीं होने के बाद विधायक अजीत शर्मा ने 26 मई को फिर से अपना और अपने धर्मपत्नी का सरकारी मान्यता प्राप्त अस्पताल में कोरोना जांच कराया तो फिर से दोनों का नेगेटिव रिपोर्ट आया, कांग्रेस विधानमंडल दल के नेता ने भागलपुर सहित पूरे प्रदेश में कोरोना जांच के नाम पर स्वास्थ्य विभाग के द्वारा लोगों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ किए जाने का आरोप लगाते हुए ,मुख्यमंत्री से इसको जांच कराकर दोषी अधिकारियों को कड़ी से कड़ी सजा दिए जाने की मांग की है।

कांग्रेस विधायक ने कहा कि एक तरफ लोग भय के साए में जी रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ स्वास्थ्य विभाग लोगों के जान के साथ खिलवाड़ कर रहा है।यदि कांग्रेस विधानमंडल दल के नेता अजीत शर्मा के द्वारा लगाए गए आरोप सही हैं। तो आप सहज ही अनुमान लगा सकते हैं कि जब विधायक और उनकी धर्म पत्नी के साथ स्वास्थ्य विभाग के द्वारा ऐसा खिलवाड़ किया जा सकता है ,तो आम लोगों के साथ क्या ,किया जा रहा होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here