PATNA। शनिवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रदेशवासियों के नाम एक अपील में कहा कि कोरोना संक्रमण की दर में कमी हो रही है लेकिन भविष्य की संभावनाओं को देखते हुए हम सबों को पूरी तरह सतर्क रहना होगा। डॉक्टरों की सलाह एवं सुझाव को मानना चाहिए। लॉकडाउन के अच्छे परिणाम मिले हैं। जनता द्वारा लॉक डाउन के गाइडलाइन का पालन किया जा रहा है।

इसका परिणाम यह हुआ है कि अब मरीजों की संख्या में कुछ दिनों से कमी आ रही है। 25 मई के पूर्व ही वह बैठक कर यह निर्णय लेंगे कि आगे क्या करना है।मुख्यमंत्री ने लोगों से यह अपील की है कि कोरोना पर नियंत्रण पाने के लिए आवश्यक है कि लोग मास्क लगाएं, दो गज की दूरी बनाकर रखें और टीका अवश्य लगवाएं। मुझे यकीन है कि संयुक्त प्रयास से हम इस बीमारी पर अवश्य विजय हासिल करेंगे। 

गौरतलब है कि आज आपदा प्रबंधन पर निर्णय को लेकर अहम बैठक बुलाई गई है। गृह विभाग के सूत्रों का कहना है कि बैठक में मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार को लॉकडाउन की पूरी अद्यतन जानकारी दी जाएगी। उनकी सहमति के बाद मुख्‍य सचिव राज्‍य में लॉकडाउन बढ़ाने की घोषणा कर सकते हैं। इस बार लॉकडाउन के गाइडलाइन में भी कुछ बदलाव होगा। शहरों में लॉकडाउन में कुछ छूट दी जा सकती है, मगर गांवों में इस बाद सख्‍ती होगी।
ब्‍लैक फंगस महामारी घोषित

मुख्यमंत्री ने कहा कि नयी बीमारी ब्लैक फंगस को राज्य सरकार ने भी महामारी घोषित किया है। आइजीआइएमएस तथा पटना एम्स के साथ-साथ कई सरकारी एवं निजी अस्पतालों में ब्लैक फंगस की दवा उपलब्ध करायी जा रही है।

चलंत आरटीपीसीआर टेस्टिंग वैन रवाना

मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार में कोरोना संक्रमण के जांच की संख्या बढ़ायी जा रही है। ग्रामीण क्षेत्रों के लिए आज से चलंत आरटीपीसीआर टेस्टिंग वैन को रवाना किया गया है। इससे कोरोना जांच की गति और बढ़ेगी। कोरोना संक्रमण से प्रभावित होम आइसोलेशन में रह रहे लोगों की ट्रैकिंग हिट कोविड नाम के साॅफ्टवेयर से की जा रही है। इस व्यवस्था में स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा नियमित रूप से घर-घर जाकर मरीजों के ऑक्सीजन लेबल व टेंपरेचर की जांच की जा रही है। इसका अनुश्रवण केंद्रीकृत तरीके से किया जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here