भगवानपुर/कैमूर। भगवानपुर प्रखंड के रामगढ़ के पवरा पहाड़ी पर स्थित अति प्राचीन माता मुंडेश्वरी का मंदिर है। जहां शनिवार सुबह 10 बजे से कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर गृह विभाग के सचिव द्वारा जारी किए पत्र के आलोक में माता मंदिर में श्रद्धालुओं के दर्शन पूजन पर रोक लगा दी गई है। वही माता मुंडेश्वरी मंदिर में पुरातत्व विभाग के कर्मी बबलू तिवारी द्वारा धार्मिक न्यास परिषद के कर्मियों के उपस्थिति में ताला लगा दिया गया है।

धार्मिक न्यास परिषद के कर्मचारी गोपाल कृष्ण ने बताया कि कोरोना संक्रमण को लेकर माता मुंडेश्वरी मंदिर को शनिवार सुबह गृह विभाग के जारी पत्र मिलने के बाद ताला लगा दिया गया।वही माता मुंडेश्वरी मंदिर में सिर्फ समयानुसार आरती पूजन पुजारियों द्वारा किया जाएगा। गौरतलब है कि पिछले साल भी दो बार कोरोना संक्रमण को मंदिर बंद हुआ था। इस साल एक बार फिर कोरोना के बढ़ते संक्रमण को लेकर मंदिर में श्रद्धालुओं के दर्शन पूजन पर रोक लगा दी गयी है। अब तक कोरोना को लेकर तीसरी बार मंदिर बंद हुआ है।

वही बिना जानकारी के अभाव में माता मुंडेश्वरी धाम में मंदिर तक दर्शन पूजन के लिए पहुंचने वाले श्रद्धालुओं द्वारा मंदिर के बाहर लगाए गए गेट के ताला के बाहर से ही मत्था टेककर आशीर्वाद लिया गया। श्रद्धालुओं का कहना था कि उन्हें जानकारी नहीं था कि माता मुंडेश्वरी का मंदिर बंद हो गया है। लेकिन जब माता के मंदिर दर्शन पूजन के लिए आए हैं तो मंदिर बंद रहे तो भी हम लोग बाहर से ही माता का दर्शन मत्था टेक कर अब घर जा रहे हैं। बताया गया है कि कोरोना संक्रमण को लेकर माता मुंडेश्वरी का मंदिर 30 अप्रैल तक बंद कर दिया गया है। इस बार एक बार पिछले साल की तरह चैत्र नवरात्रि में माता मुंडेश्वरी मंदिर में दर्शन पूजन श्रद्धालु नहीं कर पायेंगे।

वहीं भगवानपुर बीडीओ मयंक कुमार सिंह ने बताया कि सरकार के कोरोना गाइडलाइंस गृह विभाग द्वारा जारी किए गए सचिव के पत्र के आलोक में शनिवार से माता मुंडेश्वरी मंदिर को ताला लगाकर बंद कर दिया गया है। श्रद्धालुओं के दर्शन पूजन पर पूरी तरह से रोक लग गई है।मंदिर में आरती पूजन समय के अनुसार किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here