भभुआ/कैमूर। विभिन्न सामाजिक कार्यों में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेने वाले स्वयंसेवक युवा के रूप में एक मात्र कैमूर जिले के भभुआ शहर के वार्ड न०-09 के विन्ध्याचल प्रसाद के पुत्र समाजसेवी शिवम कुमार को उनके कम उम्र में कई विभिन्न सामाजिक दायित्व में बहुत ही सराहनीय एवं बेहतर कार्य किया है। जिसे देखते हुए भूमिका विहार की ओर से राजधानी पटना में पनाश होटल में आयोजित राज्य स्तरीय सम्मेलन का आयोजन किया गया था। जिसमें युवा और युवतियों को सामाजिक योगदान हेतु “अरुण सम्मान” से समाजसेवी शिवम कुमार को मुख्य अतिथि बिहार के उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद एवं कला व संस्कृति मंत्री आलोक रंजन झा के हाथों सम्मानित किया गया।

पटना से लौटे शिवम ने बताया कि शनिवार को भूमिका विहार की ओर से वूमनिश 2021 क्योंकि रंग और रूप मेरी पहचान नहीं विषय पर राज्य स्तरीय कार्यक्रम आयोजित हुआ। भूमिका विहार 35 वषों से बिहार राज्य खासकर कोशी-महानंदा क्षेत्र में वंचित समाज की लड़कियों एवं महिलाओं को शैक्षणिक, सामाजिक एवं आर्थिक रूप से मुख्य धारा से जोड़ने हेतु प्रयासरत हैं। भूमिका विहार के दुर्गा जत्था से जुड़ी हजारों बेटियां आज बाल विवाह और झूठी शादी को रोकने हेतु प्रयासरत हैं।

इस कार्यक्रम में “I Exist” नामक फिल्म को प्रदर्शित किया गया। ये भूमिका विहार के द्वारा तैयार किया गया है जिसमें दिखाया गया है कि बेटी के रूप में जन्म लेकर उनके गर्भ से कब्र तक के संघर्ष का सफर रोजमर्रा के जीवन में परंपरा और रीति के नाम पर बड़े ही आसानी से शामिल रहता है। यह फिल्म एक जवाब है उन लोगों के मानसिकता पर जो अक्सर लड़कियों को उनके रंग, रूप, कद और काठी के आधार पर आंकते है।

इस फिल्म में भूमिका विहार के बालिका पंचायत की लड़कियों ने कलाकार के रूप में कार्य किया जो कहीं न कहीं अपने जीवन में प्रयासरत हैं बाल विवाह और झूठी और जबरन विवाह को रोकने हेतु। इस फिल्म के माध्यम से लड़कियों ने यह बताने के कोशिश की है कि किसी भी लड़की के जीवन का अंतिम पड़ाव विवाह का मंडप नहीं हो सकता।

एक लड़की के रूप में जन्म लेने मात्र से उसकी तकदीर और तस्वीर तय नहीं की जा सकती। अगर वह झूठी शादी के जाल में फंस जाती है तो उन्हें भी अपने जीवन को सम्मान के साथ दुबारा आरंभ कर सकती हैं। यह फिल्म एक आगाज है कि लड़कियों को अपने अस्तित्व और सम्मान के लिए खुद ही पहल करना होगा।

कैमूर के लाल समाजसेवी शिवम कुमार ने कई विभिन्न क्षेत्रों में कठिन परिस्थितियों में सकारात्मक पहल के साथ पहचान बनाने वाले को ये “अरुण सम्मान” मिलने पर कैमूर वासियों एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं में अत्यंत उत्साह व हर्ष का महौल है। शिवम ने बताया कि मेरे जिंदगी का एक गौरवान्वित का पल रहा जो हमारे कैमूर के लिए गौरव की बात है कि मुझे ये सम्मान मिला।

मैं युवाओ को संदेश देना चाहता हूं कि युवा या युवतियां सकारात्मक सोच के साथ समाज के विभिन्न क्षेत्रों में काम करें। इस कार्यक्रम में उपस्थित भूमिका विहार के निदेशक शिल्पी सिंह, जेल आईजी मिथिलेश कुमार मिश्रा, यूनीसेफ की स्टेट हेड बिटे शफीक, महिला और बाल विकास मंत्रालय की सलाहकार निशा झा, सीआइएमपी के निदेशक प्रो. वी मुकुंदा दास आदि कई गणमान्य लोग उपस्थित रहें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here