भगवानपुर प्रखंड मुख्यालय में जीविका द्वारा दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना के तहत रोजगार सह मार्गदर्शन मेला का हुआ आयोजन

-नौकरी के लिए उत्साह के साथ पहुँचे बेरोजगार युवक युवतियों को अच्छी जॉब की नहीं मिली आस

भगवानपुर कैमूर। बुधवार को भगवानपुर प्रखंड मुख्यालय परिसर में जीविका द्वारा दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना के तहत रोजगार सह मार्गदर्शन मेला का आयोजन किया गया। जिसमें भगवानपुर प्रखंड क्षेत्र के अलावा कैमूर जिले के कई प्रखंडों के सैकड़ों की संख्या में अभ्यर्थी पहुंचे। इस दौरान रोजगार मेला में बेरोजगार युवक-युवतियों की काफी भीड़ देखने को मिली। जहां बेरोजगार युवक-युवतियों ने अपने डॉक्यूमेंट,रिज्यूम के साथ रोजगार मेला में लगे काउंटर पर कतार में खड़े दिखे मिले।

दरअसल, जीविका द्वारा आयोजित रोजगार मेला का उद्घाटन भगवानपुर बीडीओ मयंक कुमार सिंह,जीविका के जिला परियोजना प्रबंधक कुणाल शर्मा द्वारा दीप जलाकर किया गया। इस दौरान भगवानपुर जीविका के बीपीएम सुनील कुमार, सीडीपीओ अंजू कुमारी, सामुदायिक समन्वयक दीपक कुमार,राजकरन सिंह, सहित कई पदाधिकारी व कर्मी मौजूद रहे हैं।

जानकारी के मुताबिक, इस रोजगार मेला में 5537 बेरोजगार युवक-युवतियों रजिस्ट्रेशन कराया था। जिसमें कंपनी द्वारा लगाए गए 14 स्टॉल की कंपनियों के प्रतिनिधियों द्वारा 1041 अभ्यर्थियों के आवेदन लिया गया। इस रोजगार मेला में ईकॉम एक्सप्रेस में डिलीवरी ब्वाय, नवभारत फर्टिलाइजर, एक जेंडर एक्वा प्राइवेट लिमिटेड सहित कई प्राइवेट लिमिटेड कंपनियों के प्रतिनिधि मेला में पहुंचकर विभिन्न पदों के लिए आवेदन लेने के लिए स्टॉल लगाए हुए थे।

जहां बेरोजगार युवक-युवतियों के रजिस्ट्रेशन करने के बाद उनके आवेदन को रिज्यूम को लिया गया। रोजगार मेला में पहुँचे बेरोजगार युवक युवतियों का कहना था अच्छी जॉब वाले मेला में कंपनियां आएंगी। लेकिन यहां तो दिल्ली, कोलकाता, मुंबई, बेंगलुरु आदि दूसरे शहरों में रोजगार, नौकरी के लिए जाने वाली कंपनियां थी। जिनकी वेतन ₹10000 तक के नीचे थे। जबकि जीविका द्वारा रोजगार मेला में बिहार के स्थानीय जिले में नौकरी देने वाली कंपनियां नहीं पहुंच पाई थी।

जीविका के रोजगार मेला में आठवीं पास से स्नातक पास तक के बेरोजगार अभ्यर्थियों ने अपना आवेदन दिया। अभ्यर्थियों को रोजगार मेला में अच्छी नौकरी की आस हाथ नहीं लगी। कंपनियों द्वारा आवेदन लेने के बाद अभ्यर्थियों को 1 सप्ताह के बाद जानकारी देने की बात फोन या मैसेज के माध्यम से कही गई।

कोरोना गाइडलाइंस की उड़ी धज्जियां बिहार में एक बार फिर कोरोना अपना पाव पसारना शुरू कर दिया है। कोरोना के संकट अभी खत्म भी नहीं हुए है। बुधवार को जीविका द्वारा आयोजित रोजगार मेला में सैकड़ो की संख्या में नौकरी पाने की सपने लिए बेरोजगार युवक युवतियों की भीड़ उमड़ पड़ी थी। इस दौरान 14 प्राइवेट कंपनियों के प्रतिनिधियों के स्टॉल लगाए गए थे। जहां सभी स्टॉल पर दर्जनों की संख्या में भीड़ में युवक युवतियां खड़े दिखे। इस दौरान रोजगार मेला में कोरोना गाइडलाइंस की खूब धज्जियां उड़ी। मास्क व सोशल डिस्टेसिंग का पालन नहीं हो पाया। कुछ कंपनियों के प्रतिनिधियों ने मास्क पहना था। कुछ ने नहीं। वही जीविका दीदियां भी अपने क्षेत्र बेरोजगार युवक युवतियों को लेकर पहुँची थी। ज्यादातर संख्या में अभ्यर्थियों ने भी मास्क नहीं पहना था। सोशल डिस्टेसिंग की पालन होना बात ही अलग है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here