भगवानपुर। शिक्षा हो, खेल हो, या फिर व्यवसाय हीं क्यूं न हो। विकास के किसी भी क्षेत्र में आजमाइश कर लो तो हम महिलाएं पुरुषों से तनिक भी कम नहीं हैं। हम किसी भी क्षेत्र में पुरुषों से कंधे से कंधे मिलाकर चलने को तैयार हैं। उक्त बातें अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर प्रखंड मुख्यालय स्थित काली मंदिर परिसर में आयोजित पोषण परिचर्चा कार्यक्रम के दौरान जीविका दीदियों ने कही। जीविका से संबंधित कार्यक्रम स्थल पर दर्जनों की संख्या में जुटी महिलाओं का हौसला अफजाई करते हुए संबोधन कर रही थी।

कुछ महिलाओं ने कहा की एक जमाना था की आवश्यकता के अनुरूप महिलाएं अपने पतियों से पैसे मांगा करती थीं, मगर मौजूदा समय में परिस्थिति ठीक इसके उलट है। आज घरों में पति अपने पत्नियों से कहते हैं कि आप जाइए और समूह से पैसा निकाल कर लाइए, उन पैसों को मुझे रोजगार में लगाकर मुनाफा कमाना है। महिलाओं के संबोधन कार्यक्रम से पूर्व मुखिया संघ के अध्यक्ष गब्बर मियां के हाथों दीप प्रज्वलित कर इस कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया।

बीपीएम सुनील कुमार ने बताया कि पोषण एवं स्वास्थ्य से संबंधित क्षेत्र में कई महिलाओं ने काफी सराहनीय कार्य किया है, जिन्हें की सभी 9 पंचायतों से चिन्हित किया गया है। इन महिलाओं को पोषण परिचर्चा कार्यक्रम के समापन पर पुरस्कृत कर उनके हौसलों को और भी ज्यादा बढ़ाया जाएगा। पुरस्कृत की जाने वाली होनहार महिलाओं में सुशीला देवी, रीना देवी, आशा देवी, कौशल्या देवी, आरती देवी समेत कई अन्य महिलाओं का नाम शामिल है।

मौके पर सामुदायिक समन्वयक दीपक कुमार, सीएलएफ की कोषाध्यक्ष सुशीला मौर्या के साथ-साथ रिता, संगीता, मंजू व एमआरपी सुजीत कुमार समेत कई अन्य जीविका से संबंधित महिला एवं पुरुष कार्यकर्ता उपस्थित थें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here