भभुआ/ रामपुर। बुधवार की सुबह 9 से ही जिले मुख्यालय भभुआ सहित ग्रामीण इलाकों की सड़कों पर मां सरस्वती प्रतिमा का विसर्जन की प्रक्रिया शुरू हो गयी। विभिन्न पूजा पंडालों में स्थापित मां सरस्वती की प्रतिमा को लोग वाहनों पर रख रहे थे। इस दौरान युवा मां सरस्वती की जय, हंस वाहिनी की जय आदि नारा लगा रहे थे। पूजा समिति व शैक्षणिक संस्थानों में मां सरस्वती की प्रतिमा को वाहन पर रख कर विसर्जन के लिए नदी, तालाब,पोखर,नहरों में ले जाया गया। वाहनों को काफी आकर्षक तरीके से सजाया गया था।मां सरस्वती को नम आंखों से विदाई देते हुए उनकी प्रतिमा को सरोवरों, नदियों में ले जाकर विसर्जन किया गया।

इस बार कोविड 19 क गाइडलाइंस को लेकर रामपुर प्रखंड की पुलिस प्रशासन बीडीओ संजय पाठक, करमचट थानाध्यक्ष संजय कुमार सिंह, बेलांव थानाध्यक्ष सुहैल अहमद सहित पुलिस जवानों की ड्यूटी के दौरान काफी चौकन्ना रहे। विसर्जन जुलूस में डीजे पर पूर्ण प्रतिबंध लगाया गया था। शांतिपूर्ण तरीके से मां सरस्वती की प्रतिमा का विसर्जन हुआ। रामपुर प्रखंड के की सड़कों पर आने-जाने वाले लोगों को भी युवाओं ने अबीर व गुलाल लगाया। भभुआ- भगवानपुर पथ पर स्थित पहड़ियां डैम, चैनपुर के जगहवां डैम, सुवरन नदी, दुर्गावती जलाशय परियोजना सहित जिले के विभिन्न जगहों पर स्थित जलस्त्रोतों में मां सरस्वती की प्रतिमाओं का विसर्जन किया गया।

इसके अलावा जिले के चैनपुर, भगवानपुर, रामपुर, मोहनियां, अधौरा, कुदरा, दुर्गावती, नुआंव, रामगढ़ आदि सभी प्रखंड मुख्यालयों के साथ-साथ ग्रामीण इलाकों में स्थापित मां सरस्वती की प्रतिमाओं का विसर्जन किया गया। पूरे जिले में प्रतिमा विसर्जन को लेकर प्रशासनिक व्यवस्था भी चुस्त रही। ग्रामीण इलाकों में मां सरस्वती की प्रतिमाओं का गांव में भ्रमण कराया कर विसर्जित की गई। वहीं भभुआ नगर में स्थापित प्रतिमाओं में कुछ ही प्रतिमाओं को नगर भ्रमण कराया गया। प्रतिमाओं को विसर्जित करने से पूर्व समिति के सदस्यों द्वारा मां सरस्वती की पूजा अर्चना की गई। करमचट थानाध्यक्ष संजय कुमार सिंह ने बताया कि थानाध्यक्ष के 25 मां सरस्वती की प्रतिमा को शांतिपूर्ण तरीके से विसर्जन कराया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here