भगवानपुर/कैमूर: कैमूर ज़िले के भगवानपुरथाना क्षेत्र के कोचाडी गांव के नाथू बाबा करईल ताल के पास सिवाना गेंहू पटवन के लिए गए किसान की सोमवार की अहले भोर में साढ़े 4 बजे शव मिला। इस घटना की सूचना मिलते ही गांव सहित इलाके में सनसनी फैल गई। शव की पहचान कोचाडी गांव के किसान ददन सिंह कुशवाहा के रूप में हुई। इस घटना के बाद परिजनों में कोहराम मच गया। परिजनों का रो रोकर बुरा हाल हो गया। बधार में शव की सूचना पर ग्रामीणों तथा आस पास के लोगों की भीड़ जमा हो गई। कुछ लोगों द्वारा हत्या तो कुछ लोगों द्वारा विद्युत करंट से मौत की बात कह रहे थे। लेकिन परिजनों द्वारा भूमि विवाद में हत्या की आरोप कुल 5 लोगों पर लगाया जा रहा था। जिसमें गांव के 3 लोग और 2 अज्ञात होने की बात कही गयी।

मिली जानकारी के मुताबिक,मृतक कोचाडी गांव का 42 वर्षीय ददन सिंह बताया जाता है। जो रविवार की शाम 7:30 बजे अपने घर से खाना खाने के बाद खेत पर गेहूं का पटवन करने के लिए गया था। सोमवार की भोर में 3:37 बजे परिजनों को गांव के 2 लोगों द्वारा जानकारी मिली कि ददन सिंह कुशवाहा की बिजली करंट से मौत हो गई है। जिसके बाद मृतक के बेटे और गांव के लोग भागे भागे खेत पर पहुंचे तो वहां पर तो शव नहीं मिला। आधे घंटे की खोज के बाद नाथू बाबा का करइल ताल के सिवाना में शव मिला।

किसान के गले में लगा था गमछा  मृतक के छोटा पुत्र रवि ने बताया कि जब सूचना पर सिवाना में गए तो उस समय पिता के छाती पर एक एलईडीई टॉर्च जल रहा था और गले में गमछा को फंदे की तरह बांधा गया था। इसके साथ ही हाथ में निशान थे। जिसे आशंका व्यक्त की जा रही है कि हाथ में विद्युत करंट पकड़ा कर गले में गमछा का फंदा लगाकर उनकी हत्या की गई है। घटना की सूचना पर घटनास्थल पर काफी लोगों की भीड़ जुट गई।जिसके बाद भगवानपुर थाना को सूचना दिया गया। मौके पर भगवानपुर थाना की पुलिस पहुंचकर शव के गले में से गमछा को निकाला गया। गमछा व टॉर्च को बरामद किया।

पुलिस को घण्टों नहीं ले जाना दिया गया शव  बधार में किसान का शव को गांव के सड़क पर लाया गया। जिसके बाद पुलिस द्वारा शव को पोस्टमार्टम के लिए कागजी कार्रवाई में जुट गई। शव को पोस्टमार्टम के लिए ले जाना चाहती थी।लेकिन मौके पर जुटी आक्रोशित ग्रामीण की भीड़ व परिजनों द्वारा डीएम और एसपी की बुलाने की मांग अड़े थे और इस हत्या मामले में गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे। परिजनों के बताए नाम आरोप के अनुसार पुलिस ने दो लोगों को हिरासत में लिया।वही एक व्यक्ति जिस पर आरोप लगाया गया है वह फरार है।

घटनास्थल पर नहीं है कोई विद्युत तार मृतक किसान के छोटा पुत्र रवि कुमार ने बताया कि घटनास्थल पर पिता के शव के पास किसी भी प्रकार का विद्युत करंट का तार या बोरिंग का मोटर नहीं था। जिसका मोटर था वह अपना रात में ही वहां से हटा कर फरार हो गया है।

8 घण्टे बाद पुलिस ने शव को लिया कब्जे में आक्रोशित भीड़ और परिजनों को घटनास्थल पर पहुंचे भगवानपुर थानाध्यक्ष राकेश कुमार रोशन व इंस्पेक्टर धमेंद्र कुमार सिंह द्वारा काफी समझा-बुझाकर कार्रवाई का आश्वासन दिया गया। तब जाकर परिजन मानें और दोपहर करीब 12.30 बजे 8 घण्टे बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भभुआ जाने दिया। जहां तीन सदस्यीय डॉक्टरों की टीम ने शव का पोस्टमार्टम करने के बाद पुलिस को सौंप दिया। जिसके बाद पुलिस शव का अंतिम संस्कार के लिए परिजनों को सौंप दी।

बड़े बेटे ने थानाध्यक्ष को दिया आवेदन घटना के बाद मृतक के बड़े बेटे नीरज कुमार सिंह ने भगवानपुर थानाध्यक्ष को हत्या का आरोप लगाते हुए एफआईआर का आवेदन दिया  गया। गांव के ही 5 लोगों के खिलाफ नामजद प्राथमिकी के आवेदन दिया गया है।  जिनमें पूछताछ के लिए दो लोगों बितन राम और पोलाहवन राम को पुलिस ने हिरासत में लिया है। एफआईआर के आवेदन में बड़े पुत्र नीरज कुमार ने कहा है कि हमारे पिता से जमीन का विवाद था। जिसमें रामाशंकर पांडेय जमीन लिखे थे और, बाकी 18 डिसमिल जमीन लिखना है।

 इस मामले में उनका भाई दशरथ पांडे धमका रहे थे कि तुम खेत मत लो नहीं तो तुम को जान से मरवा देंगे। कहा है कि उसके पिता ददन सिंह दो दिन पहले से ही खेत में पानी भरने के लिए चर्चा कर रहे थे। इसी बीच खेत में पानी भरने के लिए शाम 7 बजे दशरथ पांडे, धर्मेंद्र पांडे, बितन राम और पोलाहवन राम सभी लोग घर पर आए और बुला कर ले गए।यह कह कर कि आज खेत पटाने चलो। आवेदन में यह भी कहा है कि घटना से पहले उस खेत में अवैध रूप से दशरथ पांडे के द्वारा लाइन का तार खींचा हुआ था। जब हम लोग सोमवार की अहले सुबह पौने चार बजे सूचना पर गए तो तार हटा दिया गया था।

घटना के बाद परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल
परिजनों और ग्रामीणों से मिली जानकारी के मुताबिक मृतक ददन दो भाइयों में छोटा था। उसके बड़े भाई मदन सिंह हैं। उधर, घटना के बाद परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है। बताया गया है की मृतक ददन सिंह कुशवाहा के तीन पुत्र है।जिनमें सबसे बड़ा नीरज कुमार सिंह 25 साल, सोनू कुमार सिंह 23 साल और रवि कुमार सिंह 20 साल बताया गया है। 

पत्नी ने कहा : 11 बजे रात को आने को कहा था मृतक किसान ददन सिंह कुशवाहा की पत्नी जिआछी देवी रोते हुए कह रही थी कि उनके पति खाना खाने के बाद जब जाने लगे थे गेंहू का पटवन के लिए खेत पर तो उन्होंने जाते समय कहा था कि वह 11 बजे तक लौट आएंगे। लेकिन उन्हें सोमवार की भोर में सूचना मिली कि उनकी लाइन से मौत हो गई है। यह विद्युत करंट से मौत नहीं बल्कि उनकी हत्या की गई है।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट से होगा खुलासा इस संबंध में पूछे जाने पर भगवानपुर थानाध्यक्ष राकेश कुमार रोशन ने बताया कि परिजनों द्वारा हत्या का आरोप लगाया जा रहा है। शव का पोस्टमार्टम करा दिया गया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही पता चल पाएगा कि हत्या है या विद्युत करंट से मौत हुई है। फिलहाल दो लोगों को हिरासत में लिया गया है और पूछताछ किया जा रहा है। प्राथमिकी का आवेदन मिला है कि अभी प्राथमिकी दर्ज नहीं हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here