#मामला कैमूर जिले के भगवानपुर बीआरसी कार्यालय का

#बीईओ पर लोगों ने लापरवाही का लगाया आरोप, तो बीईओ ने कहा – यह एक मिस्टेक है

KAIMUR। कहते है जिसके अंदर देशभक्ति का जज्बा होती है वह हमेशा चौकन्ना रहता है। देशभक्ति के लिए पुलिस जवान ही होना कोई मायने नहीं रखता। देशभक्ति के लिए बोलना और करने में बहुत फर्क होता है। देशभक्ति कभी किया जा सकता है। जरूरी नहीं कि बॉर्डर पर जाकर हो देशभक्ति किया जाए। कुछ ऐसा ही देशभक्ति का नजारा उस समय देखने को मिला जब झंडोतोलन के दौरान प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी के हाथों से तिरंगा झंडा का रस्सी छूट गया तो वहां पर उपस्थित एक शख्स ने देश की आन बान शान तिरंगे झंडे को जमीन पर गिरने से बचा कर एक मिसाल पेश किया।

जब कि वहां पर कई पदाधिकारी,पुलिस जवान भी थे। 
 दरअसल, भगवानपुर प्रखंड मुख्यालय स्थित बीआरसी के प्रांगण में मंगलवार को 26 जनवरी गणतंत्र दिवस के मौके पर झंडोतोलन किया जा रहा था। प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी रंजन कुमार द्वारा जब झंडोत्तोलन किया जा रहा था तो राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा झंडा का रस्सी सलामी देने के दौरान छूट गया और तिरंगा झंडा रस्सी के माध्यम से नीचे गिरने लगा। तभी एक शख्स ने झट से अपने हाथों को बढ़ाकर झंडा को नीचे गिरने से पहले से रोक लिया गया। जिसे देखकर हर कोई हैरान हो गया।

लोगों द्वारा उस शख्स को देशभक्ति का मिसाल पेश करने की बात कही जा रही थी। जिससे तिरंगा झंडा के अपमान होने से बच गया। जिसके बाद तिरंगे झंडे को रस्सी से ऊपर खींचकर बांधा गया। उसे फिर से प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी द्वारा फहराया गया।इस दौरान बीडीओ,थानाध्यक्ष सहित कई पुलिस पदाधिकारी व लोग उपस्थित रहे।

हालांकि झंडोत्तोलन के दौरान उपस्थित लोगों द्वारा प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी पर लापरवाही का आरोप लगाया। लोगों का कहना था कि जब तिरंगा झंडा नीचे जमीन पर गिर जाता तो यह राष्ट्रीय तिरंगा झंडा का अपमान ही माना जाता। लोगों का यह भी कहना था शिक्षा विभाग के ऐसे पदाधिकारी को हर छोटी छोटी बातों का ध्यान देना चाहिए।जानकार सूत्रों द्वारा बताया जाता है कि ऐसा यह पहली बार नहीं हुआ है उसके पहले भी एक बीईओ द्वारा झंडोतोलन के दौरान टोपी लगाना भूल गए थे।

कौन है वह शख्स,जिसने तिरंगे को जमीन पर गिरने से बचाया
तिरंगे झंडे को जमीन पर गिरने से बचाने वाला शख्स भगवानपुर थाना क्षेत्र के मसही गांव के रमेंद्र सिंह बताये जाते है। जो भगवानपुर प्रखंड भाजपा के पूर्व मंडल अध्यक्ष, जिला कार्य समिति भाजपा के सदस्य, विधानपरिषद सभापति के भगवानपुर के प्रतिनिधि है। रमेंद्र सिंह ने बताया कि बीआरसी भगवानपुर में बीईओ द्वारा झंडा फहराया जा रहा था तो उस समय सभी पदाधिकारी, पुलिस जवान व लोग भी थे।

झंडोत्तोलन के दौरान बीईओ ने सलामी देने के लिए जैसे ही रस्सी छोड़ा वहां रस्सी कोई बांधने वाला नहीं था। जिससे रस्सी के माध्यम तिरंगा झंडा नीचे आने लगा। मेरी नजर तिरंगा झंडा पर ही था। मैंने तुरंत आगे बढ़कर रस्सी को हाथों से पकड़ कर तिरंगा झंडे को नीचे जमीन पर गिरने व अपमान होने से बचा लिया। उन्होंने बताया कि कोई भी पदाधिकारी हो उन्हें तिरंगा झंडा फहराने के लिए एक दिन पहले ट्रेंनिग अभ्यास कर लेना चाहिए। ताकि तिरंगा झंडा के साथ किसी भी प्रकार का अपमान न हो। 

बोले बीईओ – इस संबंध में प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी रंजन कुमार द्वारा झंडोतोलन के दौरान जो झंडा गिरने से बचा है। उसे एक मिस्टेक बताया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here