2020 अलविदा साल में कैमूर को किया गौरवांवित, पहले भी दो बार जीता है नेशनल मेडल

भभुआ/रामगढ़/कैमूर। राष्ट्रीय धावक के रूप में अपनी पहचान बनाने वाले के कैमूर के जितेन्द्र कुमार गुप्ता ने 2020 अलविदा साल में कैमूर को दौड़ में तीसरा मेडल जीत कर एक बार फिर से बिहार का नाम रौशन करते हुए परचम लहराया है। असम के गुवाहाटी स्टेडियम में मंगलवार को रेसिंग ट्रैक पर 200 मीटर की स्पर्धा में रफ्तार भरा तो बिहार की झोली में सिल्वर मेडल डाल दिया। कैमूर के इस लाल का एथलेटिक्स में यह तीसरा नेशनल मेडल है। इसके पहले वह दो बार दौड़ की स्पर्धा में नेशनल मेडल जीत चुका है।

बिहार एथलेटिक्स टीम को भी इस शानदार एथलीट से मेडल की उम्मीद थी। उस उम्मीद को जितेंद्र ने पूरा भी किया है। गौरतलब है कि जितेन्द्र ने हाल ही में मुजफ्फरपुर में आयोजित ओपन बिहार एथलेटिक्स चैंपियनशिप में 200 मीटर में गोल्ड मेडल जीता। इसके बाद उसका चयन बिहार एथलेटिक्स टीम में किया गया। आखिरकार उसने अपने चयन को सार्थक कर दिखाया। जितेन्द्र ने पदक जीतने के बाद बताया कि नेशनल एथलेटिक्स चैंपियनशिप में मेडल जीतकर वह काफी खुश है।

बताया जाता है कि वर्ष 2019 में जमालपुर में कैमूर के इस लाल ने रेसिंग ट्रैक पर रफ्तार में सबको पीछे छोड़ते हुए 100 मीटर व 200 मीटर दौड़ में गोल्ड मेडल जीता था। जिसके बाद उसने साबित कर दिया था कि वह बिहार एथलेटिक्स का चमकता हुआ सितारा है। राज्यस्तरीय एथलेटिक्स प्रतियोगिताओं में भी उसने दर्जन भर मेडल अपने नाम किया हैं। उसकी प्रतिभा से राज्य सरकार भी अनजान नहीं है।

उसने जब राष्ट्रीय एथलेटिक्स प्रतियोगिता में एक सिल्वर व एक ब्रोंज मेडल जीता तो सरकार ने वर्ष 2017 में उसे राज्य खेल सम्मान से नवाजा। गौरतलब है कि एथलेटिक्स जितेन्द्र कुमार गुप्ता कैमूर जिले के दुर्गावती प्रखंड के आदर्श नुआंव के विरेन्द्र प्रसाद गुप्ता का पुत्र है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here