#दूसरे नंबर पर भाजपा तो चौथे नंबर पर रही महागठबंधन के कांग्रेस प्रत्याशी, तीसरे नंबर पर निर्दलीय प्रत्याशी

 #बसपा को मिला 95245 मत, भाजपा को मिला 70951 मत
भभुआ कैमूर। बिहार के कैमूर जिले में 206 चैनपुर विधानसभा सबसे बड़ा क्षेत्र है। जहाँ बिहार विधानसभा चुनाव का पहले चरण में 28 अक्टूबर को मतदान हुआ। जिसका मतगणना मोहनियां के बाजार समिति में मतगणना केन्द्र पर हुआ। जिसमें चैनपुर विधानसभा से बसपा के मो.जमा खां ने भाजपा के बृजकिशोर बिंद को 24294 मतों से हरा कर जीत कर कब्जा जमा लिया।

मोहनियां विधानसभा : 68 साल में पहली बार महिला विधायक बनी संगीता कुमारी, राजद का तीसरी बार कब्जा

भभुआ विधानसभा : राजद के भरत बिंद ने भाजपा की रिंकी रानी पांडेय को 10045 मतों से हराया

Video :मोहनियां विधानसभा से RJD की संगीता कुमारी ने BJP के निरंजन राम को 12054 मतों से हराने के बाद,कहा यह जनता की जीत और सम्मान है

Video : कैमूर : रामगढ़ से राजद के सुधाकर सिंह ने चुनाव जीतने के बाद कहा, यह बड़ी बातें, विकास मुख्य एजेंडा और भ्रष्टाचार पर लगेगा अंकुश

Video : कैमूर : रामगढ़ से राजद से हारने वाले बसपा प्रत्याशी अंबिका यादव ने कहा, पोस्टल बैलेट की गिनती में हुई है धांधली, लगाया आरोप।

बसपा के मो. जमा खां को कुल 95245 मत मिला तो भाजपा के बिहार सरकार के खान व भूतत्व मंत्री व चैनपुर के प्रत्याशी बृजकिशोर बिंद को 70951 मत मिला। वही महागठबंधन के कांग्रेस प्रत्याशी प्रकाश कुमार सिंह को 5414 मतों से संतुष्ट होना पड़ा। जो चौथे नंबर पर रहे। वही तीसरे नंबर पर निर्दलीय प्रत्याशी नीरज पांडेय रहे। जिन्हें 13119 मत मिला। 

मतगणना के दौरान के शुरुआत में भाजपा के प्रत्याशी बसपा के प्रत्याशी से कई राउंड तक आगे चल रहे थे। लेकिन अंत में जाकर बसपा ने बढ़त बनाते हुए बीजेपी के प्रत्याशी को हार का मुंह खाना पड़ा। वही महागठबंधन के कांग्रेस प्रत्याशी बसपा और भाजपा के बाद काफी पीछे चल रही थी।

#19 प्रत्याशी थे मैदान में  यह विधानसभा सीट पहाड़ी व नक्सलग्रस्त क्षेत्र में पड़ता है। यहां 307795 मतदाता है। जहां विधानसभा 2020 के चुनाव में 19 प्रत्याशी मैदान में थे। इस बार के चुनाव में तीन बार विधायक और बिहार सरकार के मंत्री रहे बीजेपी के प्रत्याशी बृजकिशोर बिंद की प्रतिष्ठा दांव पर लगी थी। लेकिन वह अपनी सीट बचाने में नाकाम हुए।

अगर इस बार वह चुनाव जीत जाते तो वह चौथे बार विधायक बनते है। लेकिन उनकी अपने ही बयानों की वजह से जनता में आक्रोश, बिहार की राजनीति में किरकिरी और हार का सामना करना पड़ा। वही बसपा के प्रत्याशी मो जमा खान को 15 सालों से संघर्ष और जनता के बीच परिवर्तन की लहर से उन्हें चुनाव में जीत मिली। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here