• कार्यालय के नंबर पर रजिस्ट्रेशन करा कर श्रद्धालु माता के मंदिर में दर्शन के लिए ले सकते है समय
  • पहली बार 18 मार्च से 7 जून तक एवं दूसरी बार 6 जुलाई से 21 सितंबर तक मां मुंडेश्वरी मंदिर रहा बंद
  • 8 जून से 5 जुलाई तक कोरोना काल में मंदिर था खुला 

भभुआ/कैमूर(बंटी जायसवाल)। 22 सितंबर यानी आज, मंगलवार से कैमूर जिले के भगवानपुर प्रखंड के रामगढ़ गांव के पवरा पहाड़ी पर स्थित अतिप्राचीन मां  मुंडेश्वरी मंदिर खुलेगा। जिसके बाद श्रद्धालु मन्दिर के निर्धारित समय के अनुसार पूजन कर कर सकेंगे। हालांकि अभी कोरोना संकट खत्म नहीं हुआ है। जिसको देखते हुए कोरोना से बचाव के एहतियात बरतते हुए बिना मास्क, थर्मल स्क्रीनिंग, सैनिटाइजर का उपयोग कराते हुए माता के मंदिर में श्रद्धालुओं का दर्शन पूजन कराया जायेगा।

वही मंदिर परिसर में श्रद्धालुओं के लिए सोशल डिस्टेंसिग का पालन कराने के लिए गोलाकार घेरा बनाया गया है। जिसके अनुसार श्रद्धालु मन्दिर तक पहुँच सकेंगे। जिससे की भीड़ की स्थिति उत्पन्न न हो पाए। कोरोना से बचाव के सभी गाइडलाइंस का पालन किया जायेगा। यह जानकारी मां मुंडेश्वरी धार्मिक न्यास परिषद के सचिव अशोक कुमार सिंह ने दी।

दर्शन के लिए श्रद्धालु करा सकते है रजिस्ट्रेशन इसके साथ ही उन्होंने बताया कि धार्मिक न्यास परिषद द्वारा कार्यालय का कांटेक्ट नंबर जारी किया गया है। जिस पर श्रद्धालु फोन करके अपना रजिस्ट्रेशन कराएंगे।ताकि मां मुंडेश्वरी की दर्शन तथा उनके पूजन के लिए श्रद्धालुओं का समय निर्धारित किया जा सके। सचिव ने बताया कि मंदिर तथा मंदिर परिसर को रोजाना दिन में कम से कम 3 बार सेनीटाइज किया जाएगा। इसके लिए धार्मिक न्यास परिषद के कर्मियों को निर्देशित किया गया है। इधर धाम परिसर में कदम रखने से पहले सभी श्रद्धालुओं का बारी-बारी से थर्मल स्क्रीनिंग भी किया जाएगा। 

बिना मास्क के दर्शन पर रहेगा रोक  सचिव ने बताया कि 22 सितंबर यानी मंगलवार से मां मुंडेश्वरी का मंदिर खुल रहा है। जिसके बाद श्रद्धालु  दर्शन पूजन कर सकते है। लेकिन श्रद्धालुओं को मां मुंडेश्वरी दर्शन के लिए मास्क पहनना अनिवार्य होगा। अगर बिना मास्क के श्रद्धालु दर्शन के लिए पहुँचे तो उन्हें खाली हाथ मां के दर्शन किये वापस लौटना पड़ेगा। इसलिए जो भी श्रद्धालु मां मुंडेश्वरी का दर्शन के लिए पहुचेंगे तो वे मास्क जरूर पहन कर पहुचेंगे। 

कोरोना को लेकर लंबे समय तक मन्दिर रहा बंद  गौरतलब है कि कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर पहली बार केंद्र सरकार के निर्देश पुरातत्व विभाग द्वारा  जारी किये पत्र पर 17 मार्च से 31 मार्च मंदिर करना था। लेकिन मां मुंडेश्वरी मंदिर जब 18 मार्च से कोरोना को लेकर बंद हुआ तो 7 जून तक बंद ही रहा। वहीं अनलॉक में शर्तों के साथ छूट में 8 जून से 5 जुलाई तक मंदिर खुला रहा। इस दौरान श्रद्धालुओं ने दर्शन पूजन किया।   वही दूसरी बार जब कोरोना का संक्रमण लगातार बढ़ने लगा तो दूसरी बार 6 जुलाई से मंदिर जो बंद हुआ वह 21 सितंबर तक बंद रहा।

मंदिर खुलने की सूचना पर श्रद्धालुओं व दुकानदारों में खुशी  अनलॉक 4 में गाइडलाइंस के अनुसार 22 सितंबर यानी मंगलवार की सुबह से एक बार फिर मां मुंडेश्वरी मंदिर श्रद्धालुओ के दर्शन पूजन के लिए खुल जाएगा। इसकी सूचना मिलते ही श्रद्धालुओं में काफी उत्साह का माहौल है। धार्मिक न्यास परिषद के सहायक प्रबंधक गोपाल कृष्ण ने बताया कि सचिव के निर्देश पर सभी कर्मी पूरे एहतियात के साथ श्रद्धालुओं द्वारा मंदिर में मां मुंडेश्वरी का दर्शन पूजन कराने के लिए सभी तैयारियां पूरी कर ली गयी है।

गौरतलब है कि मां मुंडेश्वरी का मंदिर बंद होने की वजह प्रसाद,खिलौने,फल इत्यादि की दुकान लगाने दुकानदारों को काफी मुश्किलों में अपना जीवन बसर करना पड़ा।क्योंकि उनके लिए श्रद्धालुओं के दर्शन पूजन को आने पर उनकी दुकान चलती है।  लेकिन एक बार फिर मंदिर खुलने की सूचना दुकानदार काफी खुश है उनकी धंधा की फिर से शुरू जाएगी।  

यह खबरें भी हेडिंग पर क्लिक कर पढ़िए…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here