भभुआ कैमूर (बंटी जयसवाल)। गुरुवार को कैमूर जिला मुख्यालय स्थित भभुआ शहर में बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत के समर्थन में सैकड़ों लोग सड़कों पर उतर कर आक्रोश मार्च निकाला। वहीं महाराष्ट्र के खिलाफ आक्रोश मार्च के दौरान जमकर नारेबाजी भी की गई। यह आक्रोश मार्च जिले के समाजसेवी धर्मेंद्र सिंह के नेतृत्व में भभुआ शहर में निकाला गया। जो भभुआ शहर के पटेल चौक से होकर एकता चौक पहुंचकर संपन्न हुआ। इस आक्रोश मार्च में जिले के हर वर्ग के युवाओं ने शामिल होकर कंगना रनौत का समर्थन किया और महाराष्ट्र सरकार के खिलाफ दोहरी नीति और दोगली नीति अपनाई गयी गई है।

उसकी जमकर निंदा करते हुए नारेबाजी एवं आक्रोश भी प्रकट किया गया। आक्रोश मार्च के दौरान युवाओं एवं लोगों ने हाथों में बैनर पोस्टर लिए हुए सड़कों पर उतर कर नारेबाजी करते हुए पटेल चौक से एकता चौक तक पहुंचे। इस दौरान लोगों द्वारा कंगना रनौत जिंदाबाद, संजय राउत मुर्दाबाद, महाराष्ट्र सरकार हाय हाय,उद्धव ठाकरे होश में आओ, कंगना तुम संघर्ष करो, हम तुम्हारे साथ हैं सहित कई प्रकार के नारे लगाए जा रहे थे। इस दौरान महाराष्ट्र सरकार के खिलाफ युवाओं में काफी गुस्सा व आक्रोश नजर आ रहा था।

भभुआ शहर में महाराष्ट्र सरकार के खिलाफ आक्रोश मार्च निकालते लोग

वहीं इस मामले में समाजसेवी धर्मेंद्र सिंह ने बताया कि बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत ने जो सुशांत सिंह राजपूत हत्या एवं ड्रग्स मामले में ट्वीट किया था उससे सरकार बौखला गई थी। महाराष्ट्र सरकार के संजय राउत के साथ जो ट्विटर पर वार हुआ उसके लेकर महाराष्ट्र सरकार व बीएमसी में कंगना रनौत की ऑफिस को बुलडोजर चलाकर गिरा दिया गया। जो यह कतई सही नहीं व नाइंसाफी है। एक नारी का सम्मान महाराष्ट्र सरकार द्वारा नहीं किया गया। महाराष्ट्र सरकार की इस गंदी हरकत से युवाओं में काफी आक्रोश है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि पूरे देश के युवा सुशांत सिंह एवं कंगना रनौत के समर्थन में हैं।

कंगना रनौत के मुंबई में स्टूडियो ऑफिस गिराए जाने के विरोध में देश के युवाओं को महाराष्ट्र सरकार के खिलाफ गोलबंद होने का आवाहन किया गया। साथ ही कंगना के ऑफिस को बीएमसी द्वारा गिराए जाने के बाद क्षतिपूर्ति के लिए समाजसेवी धर्मेंद्र सिंह द्वारा अपनी कंपनी की तरफ से ₹51000 आर्थिक मदद देने का घोषणा किया गया है। आक्रोश मार्च में शामिल लोगों का कहना था कि महाराष्ट्र सरकार द्वारा एक महिला, नारी का सम्मान नहीं किया गया है बल्कि उसका अपमान करते हुए उसके ऑफिस को बुलडोजर चलाकर की गिरा दिया गया।

जो यह कतई युवाओं द्वारा लोगों द्वारा बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। महाराष्ट्र सरकार एवं उद्धव ठाकरे की सरकार होश में आ जाए नहीं तो देश के युवा गोलबंद हो जाएंगे तो सरकार को झुकना पड़ेगा। कैमूर जिले के युवा व लोग कंगना रनौत के समर्थन में अब खड़े होने लगे हैं। इस मौके पर आक्रोश मार्च के दौरान करणी सेना के जिलाध्यक्ष रिशु सिंह,दिवाकर चौबे, सोनू सिंह, रणविजय सिंह, सिंघल सिंह, पेड़ा सिंह,बिक्की सिंह सहित कई लोग शामिल रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here