भगवानपुर/कैमूर। कोरोना वायरस पूरे देश में अपना कहर बरपा रहा है। लगातार कोरोना संक्रमित मरीजो कि संख्या भी बढ़ रहा है। कोरोना ने अर्थव्यवस्था पर बुरा असर डाला। इसके बढ़ते संक्रमण को लेकर बिहार के कई जिलों में दोबारा लॉक डाउन किया गया है। वही इसके प्रकोप को देखते हुए इस बार सावन महीने में 4 अगस्त तक मंदिर व शिवालयों में दर्शन पूजन व जलाभिषेक पर पूरी से रोक लगा दी गयी है। यह रोक बिहार धार्मिक न्यास परिषद व बिहार सरकार मुख्य सचिव द्वारा जारी किये गए पत्र के बाद लगाया है।

बिहार में कोरोना से धार्मिक स्थल भी प्रभावित हो रहा है। बिहार के कैमूर जिले के भगवानपुर प्रखंड के रामगढ़ पंचायत के पवरा पहाड़ी पर स्थित अतिप्राचीन माता मुंडेश्वरी का मंदिर है। जहां सावन महीने में श्रावणी मेला एक माह तक लगता है। बिहार के अलावा उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश, झारखंड राज्य के जिलों के श्रद्धालु भक्त दर्शन पूजन के लिए आते है। क्योंकि मां मुंडेश्वरी मन्दिर के गर्भगृह में ही पंचमुखी महामंडलेश्वर महादेव विराजमान है। सावन माह में पंचमुखी महामंडलेश्वर महादेव पर जलाभिषेक करने के लिए नजदीकी तथा दूरदराज के श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती थी। लेकिन कोरोना काल में ठीक उल्टा देखने को मिल रहा है।

मां मुंडेश्वरी मंदिर को कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते 6 जलाई से 4 अगस्त तक बंद करा दिया गया है। ताकि कोई भी श्रद्धालु भक्त नहीं आये। सिर्फ मां मुंडेश्वरी मन्दिर में माता मुंडेश्वरी व महामंडलेश्वर महादेव का समयानुसार नित्य का आरती पूजन पुजारियों द्वारा की जायेगी। इसके बाद फिर मन्दिर का गेट बंद हो जाएगा। मंदिर बंद होने से सावन माह में गुलजार रहने वाला मां का धाम में सावन के दूसरे सोमवारी को भी सन्नाटा छाया रहा। सदियों से जिस मंदिर परिसर में जहां सावन माह व साल में दो बार पड़ने वाले नवरात्र के साथ-साथ सामान्य दिनों में भी श्रद्धालुओ की भीड़ दिखती थी।

वहां आज चिड़ियों के आवाज के सिवाय कुछ भी नहीं सुनाई पड़ रहा। मन्दिर पुजारी राधेश्याम दुबे व धार्मिक न्यास के एकाउंटेंट गोपाल कृष्ण ने बताया कि सरकार के गाइडलाइंस के तहत बिहार धार्मिक न्यास परिषद के पत्र के बाद मां मुंडेश्वरी धार्मिक न्यास परिषद के अध्यक्ष सह डीएम डॉ नवल किशोर चौधरी व सचिव अशोक कुमार सिंह के निर्देशानुसार कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए श्रद्धालुओं के हित के लिए को इस पूरे सावन माह तक मंदिर को पूरी तरह सील व बंद कर दिया गया है।

श्रद्धालुओं के एंट्री व दर्शन पूजन पर रोक लगा दी गई है।जो श्रद्धालु जानकारी के अभाव में आ रहे है तो उन्हें जानकारी दी जा रही है। वे नीचे से माता का ध्यान व पूजा कर घर चले जा रहे है। सुरक्षा को लेकर पुख्ता तैयारी की गयी है। मां मुंडेश्वरी धाम तक जाने वाले रास्ते को बैरिकेडिंग किया गया है। सैप जवान को भी तैनात किया गया है। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here